शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

!! मुक्तिका-30 !!


*********************************************
------------- बरसाती मुक्तिका -------------
आबाद हल-बैलों से अब खेत-खलिहान हो गए !
बादल गाँव पर मेरे,जम कर मेहरबान हो गए !!
खा कर थपेड़े लू के,मरणासन्न थे जो बेचारे,
पौधें वो लिपट के बारिशों से बांके-जवान हो गए !
छेड़ा है राग भौरों ने,कलियों के पास मंडरा कर,
शाख पे लटकते फूलों के,खड़े अब कान हो गए !
इठलाती नदी निकली है,मेरे गाँव की सरहद से,
उफनते नाले मिलने को उससे,बेईमान हो गए !
'पर' निकले चींटियों के,मकोड़े बदहवास से हैं !
कीट-पतंगे अब घरो में बिन बुलाये मेहमान हो गए !! 
*********************************************

4 टिप्‍पणियां:

  1. आज 16/07/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. माथुर साहब,
    मेरी पोस्ट को लिंक करने के लिए धन्यवाद.
    ब्लॉग पर आते रहिएगा--आभारी रहूँगा.

    उत्तर देंहटाएं