शनिवार, 4 अगस्त 2012

!! प्यार,मुहब्बत,इश्क,वफ़ा तू करके देख !!

*********************************************
प्यार,मुहब्बत,इश्क,वफ़ा तू करके देख !
कसमो-वादों की गली से गुज़र के देख !!
नज़रों से नज़रें मिला कर हासिल क्या,
दिलबर को कभी बाहों में भी भरके देख !!
कर ना पायेगा जुल्मों-सितम तू कभी,
अपने खुदा से बस थोड़ा सा डर के देख !!
देकर खैरात मुफलिसों को ना भाग यूँ,
ज़ख़्म उनके दिल के कभी ठहर के देख !!
घूमता है बन कर 'मुंसिफ' तू खूब 'अशोक',
मसले ज़रा अपने भी कभी घर के देख !!
*********************************************

6 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. प्रजापति जी धन्यवाद.
      खामी की और ध्यान दिलाने के लिए शुक्रिया.वैसे मैंने इस खामी को दूर करने का प्रयत्न किया था,ल्र्किन शायद पूर्ण सफलता नहीं मिली.पुनः प्रयास करूंगा.

      हटाएं
  2. आपके ब्लॉग से CTRL+A करके स्लेक्ट हो जाता है जिससे कापी की सम्भावना रहती है तकनीक दृष्टा से नयी स्क्रिप्ट । विधि लेकर प्रयोग करें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रजापति जी धन्यवाद.
      खामी की और ध्यान दिलाने के लिए शुक्रिया.वैसे मैंने इस खामी को दूर करने का प्रयत्न किया था,ल्र्किन शायद पूर्ण सफलता नहीं मिली.पुनः प्रयास करूंगा.

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. राजेश कुमारी जी,
      होसला बढाने के लिए धन्यवाद.

      हटाएं