शनिवार, 28 मई 2011

|| मुक्तिका ||


1 टिप्पणी:

  1. दिए को सूरज का भरम हो गया....
    वाह, अशोक भाई... बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं