शनिवार, 11 जून 2011

!! मुक्तिका !!

!! मुक्तिका !! 
***************************************
हवाएं ठंडी बहुत ही भाती है छत पर  !
नींद सुकूं भरी रात में आती है छत पर  !! 
नींद उड़ भी जाए तो ग़म होता नहीं है ,
 चाँद-सितारों से गुफ्तगू हो जाती है छत पर  !
दिन में निचोड़ा है सूरज ने बदन को,
रात भर चांदनी,अमृत पिलाती है छत पर  !
माना कूलर -ए.सी. का ज़माना है यारों ,
'रूह' तक ठंडक पहुँच पाती है छत पर  !
'चाँद' देखने छत पर चढ़ते थे दिन में 'अशोक',
यादें लड़कपन की गुदगुदाती है छत पर !!
****************************************
                                                                                                                                                

1 टिप्पणी:

  1. आप बहुत भाग्य शाली है जो एक साथ इतना आनंद छत पर ले पाते है.
    http://achal-anupam.blogspot.com/
    http://josochanahi.blogspot.com/
    http://mainepadhihai.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं